पूजा पाठ करते समय रखें इन बातों का ध्यान, अन्यथा घट सकती है अनहोनी

हिंदू धर्म ही नही बल्कि दुनिया के सभी धर्मों में पूजा पाठ होता है, केवल इसे करने का तरीका अलग होता है। इसमें पूरी श्रद्धा तथा निष्ठा से भक्त भगवान का पूजन करते हैं। अपने पूजन में भक्त भगवान को कई चीजें अर्पित करते हैं, लेकिन आपको बता दें कि शास्त्रों के मुताबिक भगवान के इस पूजन में कई वस्तुओं को निषेध बताया गया है। हम लोग कई बार इन चीजों का उपयोग जाने अनजाने में कर लेते हैं और उसके बाद हमारे जीवन पर उसका दुष्प्रभाव पड़ता है। आज हम आपको यहां कुछ ऐसी चीजों के बारे में बता रहें हैं। जिनको हमें पूजा पाठ में शामिल नहीं करना चाहिए। आइये जानते हैं इन चीजों के बारे में।

1- अगरबत्ती न जलाएं
आज के समय में बहुत लोग पूजन में अगरबत्ती को जलाते हैं। आपको बता दें कि अगरबत्ती बांस की लकड़ी की बनी होती है और बांस की लकड़ी को जलाना हमारे शास्त्रों में निषेध बताया गया है। यदि हम पूजन में अगरबत्ती को जलाते हैं तो हमें पितृदोष लगता है। अतः अगरबत्ती का उपयोग न करें।

2- पवित्रता का रखें ध्यान
पूजन में बहुत से लोग बिना धुले कपड़े पहन कर बैठ जाते हैं। कुछ लोग फटे कपड़े पहन कर पूजन करना शुरू कर देते हैं। इस प्रकार के कपड़े पहनना पूजन में निषेध बताया गया है। इसके अलावा आप अपने मुंह तथा शरीर को भी पवित्र रखें। स्नान तथा ब्रश आदि करके तथा साफ सुथरे कपड़े पहन कर ही आप पूजन करें।

3- इनको न चढ़ाएं तुलसी
यदि आप भगवान गणेश का पूजन करती हैं तो आप भूल से भी उनको तुलसी का पत्र न चढ़ाएं। इसके अलावा भगवान भैरव को भी तुलसी न चढ़ाएं। भगवान शिव को भी तुलसी दल प्रिय नहीं है बल्कि उनको विल्व पत्र चढ़ाएं जाते हैं। इसके अलावा भगवान शिव को केतकी का फूल न चढ़ाएं। आप इन चीजों का ध्यान पूजन में जरूर रखें।

4- इन विशेष बातों का भी रखें ख्याल
बिना स्नान करें आप तुलसी को स्पर्श न करें। इसके अलावा आप रविवार को तुलसी दल न तोड़े तथा न ही उसे स्पर्श करें। भगवान शालिग्राम को अक्षत न चढ़ाएं। यह भी ध्यान रखें की भगवान शालिग्राम का आवाहन तथा विसर्जन नहीं किया जाता है। आप अपने पूजन में पिघला घी तथा पतले चंदन का यूज न करें यह वर्जित माना जाता है। यदि आप कहीं दीपक जला रही हैं तो उसे दूसरे दीपक की ज्योति से न जलाएं। इससे घर में दरिद्रता आती है साथ ही दीपक का मुंह कभी भी दक्षिण की ओर न करें। यदि आप भगवान की प्रतिमा को स्नान कराती हैं तो उनकी प्रतिमा को हाथों से न रगड़े। यह वर्जित माना गया है। यदि आप इन बातों का ध्यान अपने पूजा पाठ में रखेंगी तो आपकी पूजा सफल होगी तथा आपका जीवन सुख समृद्धि से भरा रहेगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *