LPG गैस पर मिलने वाली सब्सिडी आपके खाते में जमा हो रही या नहीं, घर बैठे ऐसे करें चेक ,जानिए आप भी

गैस सिलिंडर पर उपभोक्ताओं को मिलने वाली सब्सिडी की राशि देर से विचार करने वाली है। कई मामले ऐसे भी हैं, जिनमें सब्सिडी का पैसा गलत खाते में चला जाता है। अगर आपके खाते में सब्सिडी का पैसा नहीं है

  गैस सिलिंडर पर उपभोक्ताओं को मिलने वाली सब्सिडी की राशि देर से विचार करने वाली है। कई मामले ऐसे भी हैं, जिनमें सब्सिडी का पैसा गलत खाते में चला जाता है। यदि आपके खाते में सब्सिडी का पैसा नहीं है, तो आप घर से इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। कई ग्राहक शिकायत कर रहे हैं कि सब्सिडी की राशि उनके खाते में जमा नहीं की जा रही है या दूसरे खाते में नहीं जा रही है। इस समस्या का समाधान बहुत सरल है। सरकार ने लोगों को घर पर अपने मोबाइल से जांचने की व्यवस्था की है कि क्या सब्सिडी की राशि उनके खाते में जमा की गई है या कितने पैसे जमा किए गए हैं। 

 एक नया पेज खुलेगा, बार मेनू पर जाएं और अपनी 17 अंकों की एलपीजी आईडी डालें। अगर आपको LPG ID की जानकारी नहीं है, तो आप वहां बताए गए चरणों को पूरा करके ‘अपनी एलपीजी आईडी का पता लगाने के लिए यहां क्लिक करें’ पर क्लिक करके पा सकते हैं।

 यहां अपना पंजीकृत मोबाइल नंबर, एलपीजी उपभोक्ता आईडी, राज्य का नाम, वितरक की जानकारी दर्ज करें। कैप्चाकोड डालने के बाद प्रोसेस बटन पर क्लिक करें। खुलने वाले नए पेज पर आपकी एलपीजी आईडी दिखाई देनी चाहिए।

 एक पॉप-अप में अपने खाते के विवरण दिखा रहा है। यहां उल्लेख करें कि क्या आपका बैंक खाता और आधार आपके एलपीजी खाते से जुड़ा हुआ है। साथ ही, आपको इस बात की जानकारी मिल जाएगी कि आपने सब्सिडी का विकल्प छोड़ दिया है या नहीं।

 पृष्ठ के बाईं ओर ‘दृश्य बुकिंग इतिहास / सब्सिडी स्थानांतरण’ पर क्लिक करें। यहां आप सब्सिडी की राशि देख सकते हैं। यहां, आपके खाते में दी जाने वाली सब्सिडी की राशि पिछले महीनों में बुलाए गए सिलेंडर और उनके शुल्कों में भी दिखाई देगी।

 इसलिए बैंक खाते में एलपीजी सब्सिडी जमा करने का पता लगाने के लिए परेशान होने या बैंक जाने की जरूरत नहीं है। आप इसे अपने मोबाइल से घर बैठे देख सकते हैं। याद रखें, एक बार जब आप लॉगिन प्रक्रिया पूरी कर लेते हैं, तो अगली बार सब्सिडी ढूंढना आसान हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *