महेंद्र सिंह धोनी के ‘ 5 अनोखे रिकॉर्ड्स’ जो शायद ही कभी टूटेंगे

Spread the love

500 से अधिक अंतरराष्ट्रीय मैच और 17 हजार से अधिक रन। कप्तानी से लेकर बल्लेबाजी और विकेट कीपिंग तक, उन्होंने हर मोर्चे पर सफलता के झंडे गाड़े। रिकॉर्डर धोनी 16 साल के लंबे करियर में, धोनी ने बल्लेबाजी और कप्तानी के मोर्चे पर एक अलग पहचान बनाई। चाहे वह छक्के मारकर मैच जीतता हो या फिर कप्तान के दौरे पर भारत को विश्व विजेता बनाता हो। धोनी को क्रिकेट प्रेमियों द्वारा कई भूमिकाओं में याद किया जाएगा। वैसे तो क्रिकेट में रिकॉर्ड बनते और टूटते हैं, लेकिन धोनी के वो 7 रिकॉर्ड अनोखे हैं, जिन्हें तोड़ना एक क्रिकेटर के लिए बड़ी चुनौती होगी।

  1. सबसे बड़ी आईसीसी ट्रॉफी – भारत ने धोनी की कप्तानी में तीन आईसीसी टूर्नामेंट जीते। किसी भी भारतीय कप्तान ने यह कारनामा नहीं किया है।

2.कैश जीत – लक्ष्य का पीछा करते हुए मैच जीतना एक कठिन चुनौती है। लेकिन धोनी को बदलना पसंद था। लक्ष्य का पीछा करते हुए जीते गए मैचों में धोनी 47 बार नॉट आउट रहे। इस रिकॉर्ड के आसपास भी कोई नहीं है।

  1. एक छक्के के साथ – मैच को आखिरी ओवर तक ले जाना धोनी की आदत थी। इसलिए 9 बार उन्होंने टीम इंडिया को छक्का लगाया। यह एक रिकॉर्ड है। किसी भी बल्लेबाज ने यह कारनामा अभी तक नहीं किया है।

4.मोस्ट स्टंपिंग – धोनी ने वनडे में 123 बल्लेबाजों को स्टंप किया है। यह वनडे में सबसे ज्यादा स्टंपिंग का रिकॉर्ड है। उन्होंने टी 20 में 34 स्टंपिंग भी की, जो एक विश्व रिकॉर्ड भी है।

  1. रॉन आउट- धोनी अपने पहले और आखिरी दोनों वनडे में रन आउट हुए। 2004 में, वह बांग्लादेश के खिलाफ पहली गेंद पर रन आउट हुए। जबकि वह पिछले साल विश्व कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ 72 गेंदों में 50 रन बनाकर रन आउट हो गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *