तो इस वजह से नीले रंग का होता है FACEBOOK LOGO

आप सब लोग फेसबूक तो यूज करते ही होंगे , फेसबूक दुनिया मे सबसे ज्यादा यूज किया जाने वाला एप्प है और पहले इस एप्प का जुनून सिर्फ युवाओं मे था लेकिन अब इसे युवाओं के साथ मध्यम उम्र और बुजुर्ग लोग भी यूज करते हें और करेंगे भी क्यो नहीं इन्फॉर्मेशन , न्यूज और आपके सगे संबंधियों की फोटो जो इसमे देखने को मिलती है,आप इसमे अपने परिजनो जो आपसे दूर हैं उनके हालचाल अपडेट और वह कहाँ – कहाँ घूम रहे ,आसानी से देख सकते हो ।

अक्सर हम अपने फोन मे जब इस एप्प को देखते हैं तो यह सभी एप्प के बीच अलग ही नीले रंग का दिखाई देता है , तो कई दफा हमारे दिमाग मे यह ख्याल भी आता है की इसका रंग नीला क्यो होता है ? और इसमे एप्प के कलर से लेकर एप्प के अंदर तक जाने पर हर जगह नीला क्यो दिखाई देता है। आज हम आपके इसी सवाल का जवाब देंगे की फेसबूक का लोगो नीले रंग का क्यो होता है ।

मार्क जुकरबर्ग ही हैं इस नीले रंग की वजह

दरअसल फेसबूक के संस्थापक , मार्क जुकर बर्ग ही इस नीले रंग के पीछे की वजह हैं , अगर आप नीले रंग को पसंद नहीं करते हो और फेसबूक बहुत यूज करते हो और नीले रंग से परेशान हो तो आप तब कुछ भी नहीं कर सकते हो , क्योंकि इस रंग की वजह खुद फेसबूक संस्थापक हैं.

इस वजह से फेसबुक का रंग नीला होता —-
दरअसल मार्क जुकरबर्ग को एक बीमारी है , जिसमे उन्हे हरे और लाल रंग स्पष्टता नजर नहीं आते हैं ,वह रेड ओर ग्रीन कलर ब्लाइंडनेस के शिकार हैं , और ब्लू उन्हे स्पष्ट दिखाई देता है जिस वजह से उन्होने इसे ब्लू रंग का ही रखा । खुद एक इंटरव्यू मे मार्क जुकरबर्ग ने इस वजह को बताया था और यह भी कहा था की नीला रंग उनके लिए बहुत रिच कलर है ।

बात करे फेसबूक की तो मार्क ने इस एप्प की स्थापना 2004 मे की थी ,और इसी सोश्ल नेटवर्किंग साइट के डैम पर आज जुकरबर्ग दुनिया के अमीरों के लिस्ट मे तीसरे नंबर पर आते हैं । शुरुआत के साल मे फेसबूक के मात्र 10 लाख यूजर थे लेकिन आज फेसबूक दुनिया की सबसे लोकप्रिय सोश्ल नेटवर्किंग साइट है जिस पर 2.6 अरब से भी ज्यादा मासिक यूजर एक्टिव रहते हैं ।

दोस्तों यह पोस्ट आपको कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर लाइक करना ना भूलें और अगर आप हमारे चैनल पर नए हैं तो आप हमारे चैनल को फॉलो कर सकते हैं ताकि ऐसी खबरें आप रोजाना पा सके धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *