हमेशा फिट रहने के लिए कहीं पर भी कर सकते हैं ये बॉडीवेट व्यायाम

प्रौद्योगिकी के इस युग में हम काफी आगे तो आ गए हैं, लेकिन इस दौड़ में स्वस्थ जीवन हमसे काफी पीछे ही छूट गया है। आधुनिक युग ने भले ही जीवन को बहुत आसान बना दिया हो, लेकिन साथ ही एक ऐसी स्थिति भी पैदा कर दी है जिससे हम जरूरी से जरूरी काम के लिए भी अपनी जगह से उठकर नहीं जाना चाहते हैं। परिणामस्वरूप, इस स्थिति ने हमारी जीवनशैली को ऐसा बना दिया है, जिसमें शारीरिक गतिविधियां निरंतर घटती जा रही हैं और हम कई बीमारियों से घिरते जा रहे हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के निर्देशानुसार एक वयस्क व्याक्ति को हर सप्ताह कम से कम 150 मिनट की शारीरिक गतिविधि करनी ही चाहिए। हालांकि, मौजूदा जीवनशैली को देखते हुए ऐसा कर पाना आसान नहीं है। ऐसे में अगर आप जिम में नही जा पा रहे हैं तो प्रतिदिन अपने घर पर ही कुछ सामान्य व्यायामों को करके भी शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं। एक सप्ताह में 150 मिनट के व्यायाम का मतलब एक सप्ताह में पांच बार लगभग 30 मिनट की शारीरिक गतिविधि है। जो कि बहुत मुश्किल काम नहीं है यदि ठान लिया जाए तो।

आप जिम और महंगे फिटनेस सेंटर में जाए बिना ही यदि घर पर ही कुछ बॉडीवेट व्यायामों का अभ्यास करते हैं तो स्वयं को स्वस्थ रखना कठिन नहीं है। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि घर पर ही किन बॉडीवेट व्यायामों को आप आसानी से कर सकते हैं साथ ही इस दौरान आपको किन बातों को लेकर सावधान रहने की जरूरत है।

बॉडीवेट व्यायामों के क्या लाभ हैं? –
समय की कमी के चलते अगर आप दैनिक व्यायाम के सभी चरणों को नहीं कर पा रहे हैं तो भी बॉडीवेट व्यायाम करने से आपको कई फायदे मिल सकते हैं। जो आपके जीवन की गुणवत्ता में सुधार ला सकते हैं।

कैलरी बर्न होता है : बॉडीवेट व्यायाम के दौरान शरीर की सभी मांसपेशियों का उपयोग होता है, इससे न सिर्फ उचित मात्रा में कैलोरी बर्न होती है साथ ही दिनभर बैठे रहने से शरीर पर जमने वाली अनावश्यक फैट को हटाने में भी मदद मिलती है।

मांसपेशियों का विकास : शारीरिक मेहनत को बढ़ाने से मांसपेशियों को बढ़ाने और मजबूती देने में मदद मिलती है। लगातार विभिन्न अभ्यासों के दौरान शरीर के विभिन्न हिस्से की मांसपेशियां स​क्रिय होती हैं, जिससे उनमें विकास की संभावना बढ़ जाती है।

कंपाउंड एक्सरसाइज : बॉडीवेट वर्कआउट मुख्य रूप से कंपाउंड एक्सरसाइज हैं, जिसका अर्थ है कि एक ही व्यायाम के दौरान शरीर की कई मांसपेशियां प्रयोग में आती हैं। इन्ही मांसपेशियों का अलग से व्यायाम करने में काफी वक्त भी लग सकता है।

कार्यात्मक शक्ति : पूरे शरीर के व्यायाम से आपको ताकत मिलती है जो विभिन्न घरेलू कामों के लिए उपयोगी हो सकती है।

थकान कम लगती है : दिनभर काम से लौटने के बाद आपको थकान महसूस हो सकती है। लेकिन आप अगर दैनिक रूप से बॉडीवेट व्यायामों को जीवनशैली में शामिल करते हैं तो दिनभर शरीर में ऊर्जा बनी रहती है।

संतुलन, स्थिरता बनाए रखने में सहायक : बॉडीवेट व्यायाम आपके शरीर की सभी मांसपेशियों को सक्रिय अवस्था में लाने में मदद करता है। एक ही समय में सभी मांसपेशियों के व्यायाम से शरीर में स्थिरता आती है। कंप्यूटर के सामने बैठकर काम करने, फोन पर ब्राउजिंग करते समय या घर पर काम करते समय भी शरीर की स्थिति ऐसी होती है जो काफी नुकसानदायक है। बॉडीवेट व्यायाम के माध्यम से शरीर की मुद्रा में भी सुधार लाया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.