UPSSSC -2016 के परिणाम संशोधित कर अभ्यर्थियों के दोबारा चयन की मांग

UPSSSC के द्वारा 2016 में प्रयोगशाला प्रवाधिज्ञ के पद पर स्वास्थ्य चिकित्सा और परिवार कल्याण विभाग तथा चिकित्सा शिक्षा के लिए वैकेंसी निकाली गई थी। जिसमें कुल पदों की संख्या 921 थी।

आवेदन की अंतिम तिथि 5 अक्टूबर 2016 थी। विज्ञापन में दिशा निर्देश दिया गया था कि आवेदन की अंतिम तिथि तक अनिवार्य रूप से शैक्षणिक योग्यता होनी चाहिए,लेकिन आरोप है कि अधिकारियों ने इस बिंदू को अनदेखा किया और उन अभ्यर्थियों की नियुक्ति करा दिया गया जिनकी शैक्षणिक योग्यता आवेदन के अंतिम तक थी ही नही।

इस भर्ती में UPSSSC के द्वारा द्वारा तीन ऐसे अभ्यर्थियों की भी नियुक्ति कर लिया गया था जिनका cutt off के अन्दर नम्बर ही नही था।

दोस्तों यह पोस्ट आपको कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर लाइक करना ना भूलें और अगर आप हमारे चैनल पर नए हैं तो आप हमारे चैनल को फॉलो कर सकते हैं ताकि ऐसी खबरें आप रोजाना पा सके धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.