शहद में डुबा हुआ लहसुन सुबह खाली पेट खाना स्वास्थ्य के लिए इतना लाभकारी क्यों माना जाता है? जानिए

सर्दी के दिनों में खाली पेट लहसुन की 2-3 कलियां शहद में डुबोकर खाने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है और बढ़ी हुई चर्बी भी कम होती है। यह यौन जीवन को प्रभावित करता है और सकारात्मक प्रभाव दिखाता है।

इसके सेवन से समय से पहले बूढ़ा होने से बचा जा सकता है। वृद्धावस्था का अर्थ है कि धमनियां सिकुड़ कर रोगग्रस्त हो जाती हैं। यह धमनियों को संकुचित होने से रोकता है और संचित कोलेस्ट्रॉल को बाहर निकालने और इसे फिर से ठीक करने में मदद करता है।

शहद में डूबे लहसुन में ऐसे तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जिनके सेवन से शरीर में गर्मी आती है। जिससे सर्दी-जुकाम जैसी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है और साइनस की समस्या भी काफी कम हो जाती है।

शहद में डूबा हुआ लहसुन एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होता है, जो गले की खराश और सूजन से राहत दिलाता है।

अस्थमा के मरीजों के लिए लहसुन और शहद किसी वरदान से कम नहीं हैं।

दिल से जुड़े लोगों के लिए शहद में डूबा हुआ लहसुन बहुत फायदेमंद माना जाता है। कुछ महीनों तक इसका सेवन करने से हृदय में रुकावटों से छुटकारा पाया जा सकता है। हृदय की धमनियों में जमा चर्बी बाहर निकल जाती है। जिससे ब्लड सर्कुलेशन ठीक से होने लगता है, जो दिल के लिए फायदेमंद होता है।

अगर आपको बार-बार डायरिया की समस्या रहती है तो इसका सेवन करना आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

इसके सेवन से पाचन तंत्र ठीक से काम करता है, जिससे पेट से संबंधित संक्रमण नहीं होता है।

इन दोनों में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो फंगल इंफेक्शन को दूर करने का काम करते हैं।

लहसुन को शहद में भिगोकर खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है। जिससे कई बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है।

यह एक प्राकृतिक डिटॉक्स है। इसे खाने से शरीर अंदर से साफ हो जाता है। जिससे सेहत अच्छी बनी रहती है।

लहसुन और शहद में मौजूद फास्फोरस दांतों को मजबूत रखता है। यह दांतों से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने का काम करता है।

इनमें फाइबर, कैल्शियम, फास्फोरस आदि तत्व होते हैं जो दांतों, बालों और हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।

लहसुन की कलियों का छिलका उतारकर शहद की एक छोटी शीशी में डाल दें ताकि वह पूरी तरह से शहद में डूब जाए और दो दिन के लिए ऐसे ही छोड़ दें। लहसुन की 2-3 कली सुबह खाली पेट लें और 45 मिनट बाद ही कुछ खाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.